न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया…..

Song Sponsored by : NK Enerprises

खळबळ न्यूज संगीत विभाग : क्षणभर विरंगुळा

चित्रपट : दर्द
साल : १९८१
संगीत : खय्याम
गीतकार : नक़्श लायलपुरी
गायक : लता मंगेशकर
अवधि : ५.३२
कलाकार : हेमा मालिनी ?राजेश खन्ना

गाण्याचा व्हिडीओ शेवटी आहे

न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया
खिला गुलाब की तराह मेरा बदन
निखर निखर गई, सँवर सँवर गई
निखर निखर गई, सँवर सँवर गई
बना के आईना तुझे ऐ जान-ए-मन
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.

बिखरा है काजल फ़िज़ा में, भीगी भीगी हैं शामें
बूँदों की रिमझिम से जागी आग ठंडी हवा में
आजा सनम ये हसीं आग हम ले दिल में बसा
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया
खिला गुलाब की तराह मेरा बदन
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.

आँचल कहाँ मैं कहाँ हूँ, ये मुझे होश क्या है
ये बेखुदी तू ने दी है, प्यार का ये नशा है
सुन ले ज़रा, साज-ए-दिल गा रहा है नग्म़ा तेरा
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया
खिला गुलाब की तराह मेरा बदन
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.

कलियों की ये सेज महके, रात जागे मिलन की
खो जाए धड़कन में तेरे, धड़कनें मेरे मन की
आ पास आ तेरी हर साँस में, मैं जाऊँ समा
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया
खिला गुलाब की तराह मेरा बदन
निखर निखर गई, सँवर सँवर गई
बना के आईना तुझे ऐ जान-ए-मन
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.
न जाने क्या हुआ, जो तूने छू लिया.

Nitin Kapre

Fearless Truth निर्भिड सत्य  जब अंधेरा घना हो।  तो समझो सूर्योदय निकट है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *